Loading...
09 जनवरी, 2012

09-01-12

करेले की जात कड़वा मगर फायदेमंद पंडित कुमार गंधर्व सुनती हुई मेरी ढ़ाई साला बेटी सर्दी के मारे रजाई में सोई है.आँखें खुली है. कान खुले हैं.इस बात के कितने अंदाज़ निकाले जा सकते हैं?

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

 
TOP