Loading...
21 फ़रवरी, 2012

21-02-2012

सवेरे-सवेरे:-
जब घर के मकान बनाने के लिए पत्नी का लगातार दबाव बना रहता है तो तंगी की हालत में एक पाठक/लेखक का मन किसी भी चीज़ में नहीं लग सकता है. चाहे वो कविता,कहानी,लघु पत्रिका हो या कोई और शगल.यहाँ आकर सब फेल हैं.

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

 
TOP